सोनमछरी

गीताश्री

सोनमछरी
(156)
पाठक संख्या − 23938
पढ़िए

सारांश

“रूम्पा दीदी... ओ रूम्पा दीदी... दरवाजा खोलो... तुम्हारे लिए संदेशा आया है...।“ मन में कुछ बेचैनी सी थी। सुबह से कुछ भी भला नहीं लग रहा था। रूम्पा ने यह हकार सुनी, कोई उत्साह न हुआ “कि होच्छे?” सवाल ...
Aparna Singh
स्त्रीत्व को दिखाने वाली बेहतरीन कहानी 🙏👏👏👏😍
रोहिणी गुप्ता
मर्मस्पर्शी कहानी। कितना कठिन होता है ऐसी स्थिति में एक लड़की के लिए फैसला करना।
Shashi Pandey
bhawna ka behud sunder chitran bahut badhai !!
Kavita Chaudhary
सुन्दर👌👌👌
Dr Rajendra Singh
👌👌👌👌👌👌😂😂😂😂😂😃😃😃😃😃
Vibhor Gaur
no words left.. great story
संतोष सुधाकर
स्त्री मन की दुविधा को दर्शाती सुन्दर रचना 👌👍
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.