सूरत नहीं सीरत खूबसूरत

लता शर्मा "सखी"

सूरत नहीं सीरत खूबसूरत
(141)
पाठक संख्या − 46806
पढ़िए

सारांश

कभी कभी किसी की भेषभूषा को देखकर हम उसके बारे में गलत अंदाज लगा लेते हैं, जबकिनन्दर से वो बहुत खूबसूरत होता है, ये कहानी इसी पर आधारित है..
Ruchi Gopal
अति सुंदर
रिप्लाय
Kalpana Chauhan
wow!!very nice
रिप्लाय
Anand Parkash Aggarwal
बिलकुल सही कहा है ।सिर्फ कपड़े और रुपये पैसों से इंसान बड़ा नहीं होता है। उसका स्वभाव एवं शानिलता ही उसकी पहचान होती है। संसार में हर तरह के इंसान होते हैं। हमें अपने जीवन में कुछ न कुछ तो मजबूरों की सहायता करनी चाहिए। एक शिक्षा प्रद कहानी है। बहुत ही खूबसूरत कहानी..... 🌺 🌺
रिप्लाय
Priya Dokania
very true
रिप्लाय
Ranjana Saxena
कपड़ों से किसी के व्यक्तित्व को नहीं जाना जा सकता।
रिप्लाय
Kumar Shivam
बहुत अच्छा लगा मै उन हिप्पी और इस कहानी के लेखिका से मिलना चाहूंगा
रिप्लाय
डॉ.अनुराधा शर्मा
बहुत ही मर्मस्पर्शी कहानी
रिप्लाय
Ravi Ambast
उत्तम वर्णन। सीरत ही महत्वपूर्ण है किन्तु सूरत पहली पहचान है।
रिप्लाय
Rajani Barnwal
nice story
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.