सुरीली

Udita Mishra

सुरीली
(3)
पाठक संख्या − 338
पढ़िए

सारांश

प्रतिभा और हुनर हो तो मुश्किल से मुश्किल लक्ष्य पाया जा सकता है यह इस कहानी में बताया गया है । सुरीली ने अपने गाने के हुनर को प्रयोग करते हुए अपना और अपनी मां का जीवन सुधार लिया।
रमेश तिवारी
बहुत ही सुरीली रचना।। कृपया स्नेह स्वरूप मेरी रचना श्रीदुर्गाचरितमानस पढ़ने का कष्ट करे सहृदय धन्यवाद जय माता दी ।
रिप्लाय
मधुर कुलश्रेष्ठ
अच्छी रचना
रिप्लाय
Garima Saxena
सही है भगवाना साथ है तो कितनी भी परेशानी क्यू ना आए आखिर में इंसान को सफलता मिलती है जैसे कि सुरीली को मिली
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.