सीख

नीतू सिंह

सीख
(191)
पाठक संख्या − 8526
पढ़िए

सारांश

हमने दूसरों के लिए जाने क्या-क्या मापदंड बना रखे हैं, ऐसी-ऐसी कसैटियाँ जिन पर हम खुद कसा जाना पसंद नहीं करेंगे। इन मानसिक दीवारों को ढहाना आखिर हम कब सीखेंगे?
Techy kushagra
bahut deep story bahut acchi soch
Ajit
अच्छी सीख देती हुई उम्दा कहानी । धन्यवाद नीतू सिंह जी ।
आनन्द त्रिपाठी
"अच्छे इंसान का सफलता से कोई लेना देना नहीं होता"...सफलता की कोई एक परिभाषा भी तो नहीं होती। बेहतरीन!...अपने आप में बहुत कुछ समेटी हुई कहानी!
पाण्डेय अनिक
आज की डिजिटल होती दुनिया में सफल होना ही परम उपलब्धि है। मुखौटे लगाए फिरते लोगों का असली चेहरा देखने की किसी को फुर्सत भी नहीं। ना ही सम्बन्धों में समर्पण ही शेष रहा, सब बस अपनी अपनी महत्वाकांक्षा के पीछे भागे जा रहे हैं। अच्छी कोशीश - शुभकामनाएँ।
Itika Soni
very nice story 👍👍👍👍
Jyoti Bharti
bhut badhiya Likha h Renuka ji
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.