सिस्टर रोमिला

बिम्मी कुवँर सिहं

सिस्टर रोमिला
पाठक संख्या − 2778
पढ़िए

सारांश

पैर में इन्फेक्शन की वजह से पापा के मित्र डाक्टर डी आर सिंह के नर्सिंग होम में मुझे भर्ती कर दिया गया , दिन मे मम्मी ,बुआ और बहने आ जाती थी पर रात आठ बजे से सुबह आठ बजे तक किसी भी परिजनों का रूकना ...
Aarti Rastogi
very heart touching
रिप्लाय
arsalan khan
painfull
रिप्लाय
Vivek Kumar
Heart touching story
रिप्लाय
Pammi Tandon
jaati bhed hamesha hi ragega
रिप्लाय
मनमोहन कौशिक
धर्म बदल सकता है जाति नहीं।डबल स्टैण्डर्ड समाज।कहानी के लिए बधाई।
रिप्लाय
Ajay Gupta
प्रेम की कोई मिसाल नही होती प्रेम बेमिसाल होता हैं
रिप्लाय
BINOD KUMAR MANDAL
अदभुत
रिप्लाय
Meera Singh
very nice story
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.