सिर्फ यादो में

अंकुर त्रिपाठी

सिर्फ यादो में
(22)
पाठक संख्या − 3384
पढ़िए

सारांश

.......फ़ोन की घंटी के आवाज सुनकर फ़ोन उठाकर देखा तो पता चला कोई अननोन नंबर है ...फ़ोन को पलट कर रख दिया और फिर करवट बदलकर सोने का असफल प्रयास करने करने लगा ...! थोड़ी थोड़ी आँख लग ही पायी थी कि फ़ोन की ...
Manish Rathor
किसी की यादें इतनी बुरी नहीं होती जितनी की हक़ीक़त😐
Anju Chouhan
सही किया
Sachin Tainguriya
अति उत्तम
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.