साया -- भाग- १

शशि कुशवाहा

साया -- भाग- १
(54)
पाठक संख्या − 4403
पढ़िए

सारांश

काली घनी अँधेरी अमावस की रात । कड़कती बिजली और तेज बारिश । चारो तरफ गहरा पसरा हुआ सन्नाटा हृदय की धड़कनों को बढ़ाता हुआ। उस  सुनसान राह पर तेजी से आती एक गाड़ी , अंदर से एक औरत के चीखने के तेजी से आती ...
साहिल शर्मा
कही अजय की आत्मा का जन्म तो नही हो गया।😂
Sushma k Pandey(देशु)
कृपया भाग २जल्दी प्रकाशित करें।रोमांचक है
रिप्लाय
Gyanendra maddheshia Gyani
very nice story ..khaskar bangle ka rahsya aur maut ne interest paida kiya h....next part ka wait rahega
antra Waghmare
interesting story👌👌👌
Manisha
आगे की प्रतीक्षा
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.