सामाजिक अस्तित्व

चित्रा राणा राघव

सामाजिक अस्तित्व
(119)
पाठक संख्या − 7266
पढ़िए
Babu Lal
धन्यवाद बच्चों की समस्या (गम्भीर) उठाने को।
Pramod Kumar Singh
सुंदर प्रस्तुति
Yogendra Singh
कहानी अच्छी है, समझ में आती तो और भी अच्छी लगती. लेखन के लिए बधाई.
Disha Ranjan
Aj k samaj me bachcho k sath aisi ghatiya hrkate bdhti ja rhi h. Sach h k bht se bachche to kisi se keh b nhi pate, qk unhe dr lga rhta h koi unki baat nhi smjhega, sb unhe hi dosh denge, jo k bht hadd tk sach b h. Maa Baap or parivar ko bachcho pe dhyan dena chahie, unhe smjhna chahie. Bht achchha sandesh deti h aapki kriti...👍🏻
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.