साड़ी का कर्ज़

डॉ.अनुराधा शर्मा

साड़ी का कर्ज़
(250)
पाठक संख्या − 15606
पढ़िए

सारांश

मैंने तब साड़ी की खराब हालत देख मन ही मन यह संकल्प कर लिया था कि एक ना एक दिन मैं ऐसी ही साड़ी खरीदकर लौटाऊंगी जरूर।
Pallavi Sharma
बहुत अच्छी कहानी है।समय पर जो सहायता करे समय आने पर उसका कर्ज अवश्य उतारना चाहिए।👍👍
रिप्लाय
puja pant
You have written very well.
रिप्लाय
Hari Singh
काफी कुछ जानने को मिला अपने मन में कोई बोझ नहीं रखना चाहिए समय रहते बोझ उतार देने से मन हलका हो जाता है
रिप्लाय
Sarita Mishra
छोटी सी किन्तु बड़ी ही सुंदर कहानी । कैसे एक छोटी सी घटना जीवन पर्यंत याद रह जाती है , और एक अमिट प्रभाव छोड़ जाती है ।
रिप्लाय
Bulbul Kishore
अच्छी और सरल कहानी है। कहानी का विषय सराहनीय है नायिका के घर की स्थिति को कमज़ोर दिखाने के लिए एक छोटे से addition की जरूरत थी good
रिप्लाय
Daisy
बहुत सुंदर रचना
Kobita Kalita
कहानी छोटी सी बात की क्यों न हो पर लिखने का अंदाज पसंद आया,कोई ताम झाम नहीं पर बिल्कुल घर जैसी भाषा की शैली।अच्छी लगी ।
रिप्लाय
डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
बहुत सुंदर, सार्थक सृजन।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.