ससुराल

આરતી આર રાજપોપટ

ससुराल
(205)
पाठक संख्या − 16731
पढ़िए

सारांश

स्नेहा की कल ही शादी हुई थी ,और आज ससुराल में पहला दिन था| आँखों में भावी के ढेर सा रे सपने , हृदय में बहुत सी नव जीवन की आशा ए संजोये थी लेकिन ..मन में एक छुपा डर सा भी था कहिं | हर सुबह माँ माँ ...
Priyashi Sourav
aise saas hoti v h ,chalo acha h syd aapke story k karn hi koi bn jaye
Harshad Thaker
આવી સમજે જ કદાચ .... સાસરું , સુખ વાસરૂ ! ની લાગણીને જન્માવી છે.
Jagdish Kumar Chaturvedi
अच्छीविचारो वाली सास।
Divya Panchal
बहुत बढिया
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.