समय का अंतराल

डॉ संगीता गांधी

समय का अंतराल
(172)
पाठक संख्या − 8928
पढ़िए

सारांश

मानसी झूले में लेटी नन्ही परी को देख भाव विभोर थी । साक्षात् ईश्वर का वरदान। मानसी को सदैव एक बिटिया की चाह थी।वो एक बड़ी कंपनी में अधिकारी थी। विवाह के बारे में मानसी ने कभी नही सोचा ।सच तो ये है कि ...
THANEE SAHU
Nice story. आज के समाज को दर्शाती हुई
Pooja Mishra
Prernapad कहानी
Kamlesh Vajpeyi
बहुत सुन्दर रचना.. !
Poonam Bhatia
बहुत ही बढ़िया हर लड़की को इस तरह की परिस्थितियों से झूझने की ताकत प्रदान हो।सब सशक्त बनें।खुद पर विश्वास कर सके।
Saroj Shastri
hmare saath b kuchh ESA hi tha HM b teen bahne h mujhe bhi apni Maa yaad AA gyi
Shiven Singh
Mam hamari koi bahan nahi h , Lekin mere pure khandan me Ladki ki /// VALUE /// Ladko se jyada h
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.