समकालीन हिन्दी कविता में प्रतिरोधी चेतना

डॉ.राकेश कुमार सिंह

समकालीन हिन्दी कविता में प्रतिरोधी चेतना
पाठक संख्या − 78
पढ़िए

सारांश

हिन्दी कविता आज कितनी समकालीन है और अपनी चेतना में किस हद तक प्रतिरोधी, इसके लिए हमें एक तरफ सामाजिक-संस्कृति की समकालीन आबो-हवा में व्यक्ति और समाज के संबंध सूत्रों के सापेक्ष निर्मित हो रहे संकटों ...
रचना पर कोई टिप्पणी नहीं है
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.