सत्ता का नशा

रंजना जायसवाल

सत्ता का नशा
(140)
पाठक संख्या − 9007
पढ़िए
Deepak Dixit
बहुत खूब
Sunita Namdeo
oorat hi orat ki dushman h
Purhythm
बेहतरीन कहानी
डा. मनसा पाण्डेय
sb kuch bharna yhi hai.
रिप्लाय
Ashish Kumar
समाज का एक वातावरण चित्रण हैं
Karishma Ajayyadav
Bahut Achhi story thi
रिप्लाय
Neelam Sinha
अच्छी कहानी। आरंभ से बांधे रखती है।
रिप्लाय
Santosh Bastiya
वाह
रिप्लाय
Chetali Saharwat
Really amazing story....it's relate to someone in my life....yahi bhagwaan ka nyay h
रिप्लाय
Ram kishan
महिला के द्वारा महिला का शोषण यह नया नहीं है। सच तो यह है नारी ही नारी की शत्रु है। रही बात कहानी की तो हां आपने बहुत सही प्रस्तुत किया है। आपको बधाई।
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.