सत्ता का नशा

रंजना जायसवाल

सत्ता का नशा
(157)
पाठक संख्या − 10942
पढ़िए

सारांश

वे रिश्ते में मेरी बुआ लगती थीं |गोरी-चिट्टी मझोले कद और गुलाबी चेहरे वाली बुआ फूफा जी की दूसरी पत्नी थीं |उम्र में उनसे लगभग पंद्रह साल छोटी |मेरी सगी बुआ की मृत्यु के तत्काल बाद ही फूफा जी ने उनसे ...
MUKTESH GUPTA
प्रयास अच्छा है लेकिन कहानी मैं बुआ को एक दम बिलन बना कर अन्त तक बनाए रखना बास्तबिकता से परे लगता है
Deepak Dixit
बहुत खूब
Sunita Namdeo
oorat hi orat ki dushman h
Purhythm
बेहतरीन कहानी
डा. मनसा पाण्डेय
sb kuch bharna yhi hai.
रिप्लाय
Ashish Kumar
समाज का एक वातावरण चित्रण हैं
Karishma Ajayyadav
Bahut Achhi story thi
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.