सच्चा साथी

डॉ. सरला सिंह

सच्चा साथी
(64)
पाठक संख्या − 13927
पढ़िए

सारांश

प्रेम का एक रूप यह भी है ।
Aishwarya Singh
very good story.
रिप्लाय
Anita Shakya
achi lgi story..par aaj ki life m koi esa mile bhuht mushkil h ...yeh sab story m hi hota h..
रिप्लाय
Rajeshwar Singh
very nice
रिप्लाय
Manisha Giri
NYC story. lekin sachchai yhi h ki aurat ka sath dene wala jldi nhi milta. syd kismt bhi achhi nhi hoti. pyar krne wala mil jaye ye bhi possible nhi. lekin ummid pr duniya kaym h.achhi suruat h.
रिप्लाय
Archana Jaiswal
Very nice story
रिप्लाय
नित्या श्यामल मिश्रा
अच्छी कहानी है किन्तु अंत में स्त्री को एक पुरुष का सहारा मिले अपने आगे के जीवन के लिए ये मुझे नहीं समझ आता मी मानती हु के विवाह हमारे (स्त्री व पुरुष के ) जीवन की सम्पूर्णता के लिए अति आवश्यक है किन्तु इस तरह से टूटी हुई स्त्री इतनी आसानी से अपना परिवार फिर से बसा ले ये समझ से परे है बिना पुरुष का सहारा लिए भी स्त्री आगे बढ़ती है हम देखे तो बहुत सी महिलाएं है समाज में
रिप्लाय
Rishu Pandey
very nice.
रिप्लाय
जय कुमार
आपकी द्वारा लिखी गयी रचना बहुत प्रेरक होती है मैम!
रिप्लाय
Roopika Singh
Very nice story 👌👌👌👌
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.