संतोष

अन्नदा पाटनी

संतोष
(190)
पाठक संख्या − 13961
पढ़िए

सारांश

दरवाज़े की घंटी बजी , देखा एक नवयुवती खड़ी थी । माँग में सिंदूर , माथे पर बड़ी लाल बिंदी, होंठों परलाली, कान में सोने के झुमके, सोने का नेकलेस , सिल्क की साड़ी और पैरों में सैंडल । मुझे ठिठकतेदेख वह ...
प्रतीक वर्द्धन अग्रवाल
बहुत सी चीजें होती है जो कभी इंसान को भूलनी नही चाहिए। इसकी सोच बहुत अच्छी है कि इसने अपने बिताए समय को याद रखा।
Aashu Jain
बढिया... 👏👏👏
रिप्लाय
Pushpa Pant
Interesting
रिप्लाय
Asmi Srivastava
bahut badhiya
रिप्लाय
Manoj Agarwal
Very nice
रिप्लाय
Vicky Kumar
kaisi atpati kahani thi
रिप्लाय
Sumeet Dubey
very nice story. proud of you madam
रिप्लाय
राजगोपाल सिंह वर्मा
क्या ऐसी भी कहानियां होती हैं? या यह एक सोच भर है... जो आपको अहंकारी और दूसरे को तुच्छ साबित करना चाहता है।
रिप्लाय
sapna sharma
nice aadaten nhi badlti kabhi
रिप्लाय
Niti jain
kisi bhi cheez se santosh mile, yehi mayne rakhta hai
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.