संघर्ष से सफलता तक

Rekha Singh ~®~

संघर्ष से सफलता तक
(9)
पाठक संख्या − 351
पढ़िए

सारांश

अब शिखा के पिता शिखा पर गर्व करते हैं। शिखा के दोनों भाई अपनी दीदी के हौसले को सलाम करते हैं और जो लोग शिखा के बारे में तरह - तरह की बातें किया करते थे वहीं लोग अब शिखा की मिशाल दिया करते हैं और कहते हैं शिखा जैसी बेटी भगवान् सबको दे।
अरविन्द सिन्हा
अत्यन्त ही हृदयस्पर्शी प्रेरक कहानी । शुभकामनाएँ ।
Vimalkumar Jain
good
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.