श्रीमद्भगवद्गीता

गीतांजलि

श्रीमद्भगवद्गीता
(49)
पाठक संख्या − 1270
पढ़िए

सारांश

श्रीमद्भगवद्गीता श्लोक-अनुवाद 1. मूकं करोति वाचालं पंगुं लंघ्यते गिरिम |यत्कृपा तमहं वन्दे परमानंद माधवं ||जिन परम आनंद धाम श्री भगवान् जी की कृपा से एक गूंगा व्यक्ति भी बोल पाता है, एक लंगड़ा व्यक्ति
दीपिका पाण्डेय
राधे राधे 🙂🙏🙏
रिप्लाय
Ravi P Vishwakarma
good and best motivations
Arun Soni
बहुत ही खूबसूरत और उम्दा है
Umesh Gupta
Very nice , shrimad bhagvad gita is the manual of our life. We should live our life as instructions given in Geeta. Shri krishna have given answers of all human questions 5000 yr back through shrimad bhagwad Geeta- Hare krishna.
Pratima Gupta
अति अनुकरणीय कार्य ।।अति उत्तम ।।
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.