श्रापित- एक अधुरी प्रेम कहानी

दिनेश कुमार दिवाकर

श्रापित- एक अधुरी प्रेम कहानी
(101)
पाठक संख्या − 6553
पढ़िए

सारांश

आज से 2 साल पहले मैं अपने दोस्त की शादी में गया था जब मैं वहां पहुंचा तो मैने देखा मेरे दोस्त वहां पहले से ही मौजूद थे जब हम कॉलेज में थे तो हम बहुत शरारत किया करते थे उन्हें देखकर मैं बहुत खुश हुआ. ...
Prati
Intresting story.. next प्लीज😊
रिप्लाय
Ruchi Sumit Agrawal
nyc bt isme shapit jaisa kuch ni h ... or y story khtm ho gyi kya
रिप्लाय
Sumit Khushlani
Nice
रिप्लाय
Sumit Gupta
इतना भागने की क्या ज़रूरत थी। कहानी थोड़ी धीरे और भावनाओं के साथ होनी चाहिए।
रिप्लाय
Harishanker Rathore
Nice
रिप्लाय
Surjit Singh
nice
रिप्लाय
Sualiha Zubairy
waiting 4 next part
रिप्लाय
rajendra singh
agla bhag kab aa raha ha
रिप्लाय
MOHAMMAD AFJAL
👌👌👌सर जॉइंट कहानी को जोड़ दो ।पूरा होने के बाद तकलीफ कम होगी।
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.