श्रापित- एक अधुरी प्रेम कहानी

दिनेश दिवाकर

श्रापित- एक अधुरी प्रेम कहानी
(126)
पाठक संख्या − 8461
पढ़िए

सारांश

आज से 2 साल पहले मैं अपने दोस्त की शादी में गया था जब मैं वहां पहुंचा तो मैने देखा मेरे दोस्त वहां पहले से ही मौजूद थे जब हम कॉलेज में थे तो हम बहुत शरारत किया करते थे उन्हें देखकर मैं बहुत खुश हुआ. ...
Ragini Chauhan
story padhkr Esa lga jaise kisi bachhe ne likhi ho.😂😂😂
रिप्लाय
Nirupa Verma
nice and lovely story kya baat h sirji..
रिप्लाय
satyam mishra
bahut khoob
रिप्लाय
NAZISH PARWEEN
very nice story 👌
रिप्लाय
Padmini saini
क्या पूरी शादी मे वो ओर किसी को भी दिखाई दी या सिर्फ आप पर ही मेहरबान हुई ।hahhah a
रिप्लाय
Naeema Ali
😮😮😮
रिप्लाय
Priyanka Sharma
आपको बहुत बधाइयां देती हूँ इस बेहतरीन लेख के लिए . आपका लेखन वाकई हृदयस्पर्शी है , मैं शब्दनगरी वेबसाइट पर भी लिखती हूँ, आपको बताना चाहती हूँ की आप वहाँ पर भी अपने लेख प्रस्तुत करें, बहुत से पाठक वहाँ भी आपकी रचना को पढ़कर आनंदित होंगे, इसी आशा से आपसे ये निवेदन कर रही हूँ। शब्दनगरी भारत की पूर्णतः हिंदी में बनी पहली निःशुल्क वेबसाइट है। मंच की तरफ से आपका स्वागत करती हूँ। अच्छा लेखन अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचना ही चाहिए। . यदि मेरी सहायता की आवश्यकता हो तो मुझे प्रतिउत्तर में अवश्य बताएं। शब्दनगरी पर आप खाता बना कर लिख सकते हैं.
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.