श्रद्धांजलि

प्रेमपाल शर्मा

श्रद्धांजलि
(58)
पाठक संख्या − 6900
पढ़िए

सारांश

मैं उस पर कहानी लिखना चाहता था । कई वर्षों तक यह विचार मेरे अन्‍दर चहलकदमी करता रहा कि बात कैसे आगे बढ़े । आँखों में आँखें डालकर उसकी आँखें बताना चाहती थीं अपनी कहानी । मुझे इतना भर पता था कि पड़ौस ...
Dipika Singh
heart touching story
Meena Bhatt.
मालिक, नोकर के बीच के अंतर को दर्शाती कहानी मार्मिक ,ह्रदय विदारक कहानी।
Verma Sujata
Very touching
रिप्लाय
Archana Varshney
अच्छी
रिप्लाय
sprabha atreya
emotional story
रिप्लाय
आशुतोष मौर्य
हृदय विदारक
रिप्लाय
Namita Gupta
U
रिप्लाय
Usha Garg
ऐसा ही होता है
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.