शौचक्रीड़ा

गौरव कुमार

शौचक्रीड़ा
(55)
पाठक संख्या − 2889
पढ़िए

सारांश

सब के हाथ मे एक एक लोटा हुआ करता था, उस समय तो पानी और कोल्ड ड्रिंक की बोतल भी नही हुआ करती थी। किसी का लोटा नया तो किसी का चिपटा, किसी किसी लोटे का पेंदा गोल भी हुआ करता, जो शौचनिवृति के बाद लट्टू जैसा नचाने के काम आता। खेल का खेल और दोस्तों के निपटारा करके आने तक का टाइम पास।
Deepak Tiwari
sir mera YouTube channel hai mujhe video banane ke leya koi short comedy script degya please sir
रिप्लाय
Pawan kumar
बहुत खूब लिखा है
रिप्लाय
Pinky Rajput
हाहाहहा!!! हास्य से भरपूर.... इस विषय पर बखूबी लिखा है... 😀😄
रिप्लाय
Puneet Dhiman
😂😂😂💐
रिप्लाय
Akash Gupta
very funny story
रिप्लाय
Mahesh Sharma
क्या बात है लाजवाब
रिप्लाय
Aakash Gautam
😂
रिप्लाय
mukesh nagar
वाह!!!गौरव जी...महान हैं आप...क्या विषय...क्या लिखा👌👌
रिप्लाय
Ritik Kushwaha
😷😷😷😵😵😵
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.