शादी में इतना झूठ तो चलता हैं

प्रगति त्रिपाठी

शादी में इतना झूठ तो चलता हैं
(260)
पाठक संख्या − 71052
पढ़िए

सारांश

रमा मोहन सिंह की लाडली बेटी थी, रमा ने हाल ही में बी०एड० की परीक्षा उतीर्ण की थी।
omprakash rajwani
isme kahani kahan hai ye to kewal ek message hai
Vinod Tarun
रिश्ते सदा दुराव छिपाव से मुक्त होने चाहिए कुछ भी छुपा कर किया गया सम्बन्ध सफल नही होता है
Rakesh Kumar chaurasia
nice
रिप्लाय
Raakesh Shukla
कोई भी सामाजिक प्राणी किसी को भी असत्य जानकारी नहीं देता है।इस कथा में दो पक्ष प्रमुख्ता के साथ प्रस्तुत किये गये है।असत्य जानकारी तथा असत्य का विरोध।दूसरे पक्ष को कम शब्दों में चित्रित किया गया है किन्तु प्रभावी रूप से किया गया है।कन्या पक्ष का निर्णय उचित है। लघु कथा का अच्छा रूप इस रचना को माना जा सकता है।
रिप्लाय
Sony Kashyap
ye koi nayi baat nahi.... shaadi k baad he pata chalta hai lerki ke jindagi swarg bani hai ya nark. dosh sirf lerka walon ka nahi hai ke wo kai jaruri baatein lerki walon se chipate hain balki lerki walon ke bhi utni he hai ya usae jyada jo lerki ke jaldi haath pilae kerne ke chakker mein lerka walon ke puri chaan bin karna jaruri nahi samajhte ager shaadi k baad sabkuch sahi nikla toh credit khud lenge ke maine accha ghar var dhundha beti k liye par lerki ke jindagi nark banai sasural walon ne toh usae beti ke kismat banakar uske akele marne chod dete hain..... ager lerki khud apni pasand k lerkae se prem vivah kare toh unki naak kat ti hai par jab wo kisi nalayak se apni beti byahte hai saari jindagi dukh bhogne k liye tab toh bare shaan ke baat hoti hai....... 😭😡
रिप्लाय
Rekha Tuli
pragati ji sahi batt hai jhooth ki buniyad par kabhi ristey nahi tiktey
रिप्लाय
Siddhant Sharma
Sikshaprad story
रिप्लाय
Devaki Nandan Dadhich
झूठ पर आधारित रिश्ता स्थाई नहीं हो सकता, हितैषी बनकर धोखा देंना, किसी का जीवन खराब करना, पाप है, निंदनीय है |
Rajendra Chaurasia
बहुत सुंदर।
रिप्लाय
Ansuyaben Gadhavi
bahut badhiya kahani
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.