शरारत

संसृति सुजाता

शरारत
(26)
पाठक संख्या − 4710
पढ़िए

सारांश

फिर भी ना जाने क्यों उसे दूसरों को परेशान करने में कितना मजा आता था। पढ़ाई में अच्छा होते हुए भी तपस की कम्प्लेन मानो रोज की ही बात हो गई थी। बात हद से ज्यादा बढ़ जाने पर उसके माता-पिता को प्रिंसिपल ...
Uday Pratap Srivastava
एक अच्छी सीख
Sumit Gupta
शब्द नही हैं मेरे पास ... Hats off to you dear. अपने बच्चों को इसे जरूर पढ़ाऊंगा ताकि कुछ सीख सकें।
Shakun Pandey
बहुत सुन्दर
Praveen Kumar Shrivastava
अच्छी कहानी
Preeti Singh
अचछी कहानी है।
Hina Kureshi
बहुत ही अच्छी रचना
Neena Sharma
आदर्श नसीहत
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.