शतरंज़ और मोहब्बत

एमडी

शतरंज़ और मोहब्बत
(237)
पाठक संख्या − 15282
पढ़िए

सारांश

सुना है शतरंज बहोत पसंद है उसे। बैठो किसी दिन फुर्सत में इस शह और मात के खेल में तुम्हें मात दे जाऊं
Davinder Kumar
शह और मात का खेल शानदार
Ravi Nagarwal
, सच में कवि का दुख भूल गया
Vijay Singh
असली प्यार शह और मात का खेल नहीं बल्कि दूसरे के लिए सब कुछ हार जाना है
Prashant Anand
बहुत खूब
Manu Prabhakar
नासिर जी शह और मात शानदार । आपकी इस रचना से एक बात समझ आई कि शह और मात में औरतें भी माहिर हैं जिसका खौफ़ मर्दों को है। शानदार रचना है सर जी ।👌🙏
रिप्लाय
Kavya Tanmayi ❤
waahh... nicely written 👌👌👌👏👏👏👏
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.