वो हिजड़ा

नितिन श्रीवास्तव

वो हिजड़ा
(135)
पाठक संख्या − 7800
पढ़िए

सारांश

एक्सीडेंट की वजह से एक महीने तक घर पर रहने के बाद आज बाहर निकला तो सब नया नया सा लग रहा था । ऐसा लगता था कि एक महीने में दुनिया ही बदल गई है । फिर ऊपर वाले का शुक्रिया अदा किया जिसने इतने भयानक ...
rakesh mishra
bahut h acchi kahani h .jitni tarif karu utna Kam h.
रिप्लाय
Kusum Jain
bahut hi positivity likhi hui story hai bahut acchi lagi
sudha tiwari
बहुत ही अच्छी कहानी
Uday Veer
graet lajabab rachna kabil'e tarif
tulika
bahut badiya kahani hai. keep it up
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.