वो रात अंधेरी

Yogita Garg

वो रात अंधेरी
(113)
पाठक संख्या − 2674
पढ़िए

सारांश

अंधेरी रात
Sonika Shukla
very nice story
रिप्लाय
शशि कुशवाहा
interesting story
रिप्लाय
Dipti Biswas
बेहद डरावना। और मार्मिक एक माँ की ममता मौत के बाद भी खत्म नहीं होती। एक शानदार कहानी।
रिप्लाय
Vinod Thaker
सही लिखा
रिप्लाय
Rajan Mishra
बेहतरीन रचना है आपकी पढ़कर बहुत अच्छा लगा । योगिता जी हमारी रचना पंसारी की भूख जरूर पढ़ें
रिप्लाय
R.K shrivastava
बिल्कुल ! वह प्रेतनी ही थी । पड़ोस मे नये पड़ोसी रहने आये, तब उसे उनके माध्यम से अपने खोये बच्चे की तलाश पूरी होने की उम्मीद बंधी । इसी कारण वह अमावस्या की रात में,जो कि प्रेतो (मृतकों) का दिन होता है, पड़ोसिन से मिलने चली आई । पुलिस की हलचल के बाद संभवतः वह प्रेतात्मा मुक्त हो ग ई हो ???
रिप्लाय
aparna
amazing story maam
रिप्लाय
Heena khan Heena khan
wonderful
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.