वो बेवफा थी या नहीं

डॉ. मनीष गुप्ता

वो बेवफा थी या नहीं
(245)
पाठक संख्या − 21229
पढ़िए

सारांश

प्यार में कोई शर्तें नहीं होतीं पर आप कम से कम एक बार अपनी बात तो बोल सकते हो अगर ऐसा नहीं कर सकते तो किसी की जिंदगी में आने का मतलब क्या है / आप ने उस समय अपने आपको सबकी नजरों में अच्छा साबित करने के लिए झूठ बोल दिया पर दूसरा अपनों की नजरों में नीचा साबित हो गया उसका क्या /शादी होना मायने नहीं रखता पर कम से कम एक बार सच तो बोलना चाहिए था / ऐसी कुछ बातें बताती ये कहानी /
दीपिका पाण्डेय
उत्तम प्रयास।।
रिप्लाय
Nilesh Kumar
बहुत खूब
रिप्लाय
Khushi Priyanka Gupta
neha bhi Sudeep se pyaar Karti thi but janti thi ki uski family Kabhi bhi taiyar Nahi hogi .isliye may be usne saara mamla ek jhute bolkar khatam Kar Diya.
रिप्लाय
Tiwari Tiwari
jhooth bola shwati ne ki usne kabhi baat nki.isse pata chalta h ki wah wewafa thi.
रिप्लाय
Davinder Kumar
Wo bewafa thi. Usse apni had malum thi. Usse apne premi ko khilona samjha. Pyar sharto se nahi hota. Kahani yatharth ke karib hai. Ek achchi rachana ke liye badhai
रिप्लाय
Supriya Sinha
nyccc👌👌👌
रिप्लाय
Mahendra singh
superb story boss
रिप्लाय
आकाश कुमार
ये वास्तविक कहानी है बहुत सच सा है इस में
रिप्लाय
Vivek Malik
वाह
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.