वो बेवफा थी या नहीं

डॉ. मनीष गुप्ता

वो बेवफा थी या नहीं
(220)
पाठक संख्या − 20535
पढ़िए

सारांश

प्यार में कोई शर्तें नहीं होतीं पर आप कम से कम एक बार अपनी बात तो बोल सकते हो अगर ऐसा नहीं कर सकते तो किसी की जिंदगी में आने का मतलब क्या है / आप ने उस समय अपने आपको सबकी नजरों में अच्छा साबित करने के लिए झूठ बोल दिया पर दूसरा अपनों की नजरों में नीचा साबित हो गया उसका क्या /शादी होना मायने नहीं रखता पर कम से कम एक बार सच तो बोलना चाहिए था / ऐसी कुछ बातें बताती ये कहानी /
shweta kumari
wo sirf aur sirf bewafa thi
रिप्लाय
Anuj Bhola
कुछ कुछ हालात फिलहाल मेरे भी यही है बंधु।
रिप्लाय
Mohd Afzal Umar Ansari
heart touching
रिप्लाय
Govind Johri
easy to fix the reader in sofa.........
रिप्लाय
Pankaj Gaur
Nice story
रिप्लाय
Rita Soni
wo bevkuf thi or sirf bevkuf
रिप्लाय
Kundan Kumar
ok
रिप्लाय
Vaishnavi Rajput
😢 no words
रिप्लाय
Sachin Yadav
Hum bewafa hargiz na they par hum wafa Kar Na sake. Badhiya.
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.