वो पहला प्यार

Neha Prateek Gupta

वो पहला प्यार
(32)
पाठक संख्या − 875
पढ़िए

सारांश

प्यार तो पहला ही था क्योकि तभी प्यार को जाना था अंजाम तक जाने की हसरत भी जगी थी मन में मगर बीच रास्ते का ही मजा लूट कर जी भर लिया ....
Manisha Raghav
बहुत खूब
Asha Shukla
very nice and beautiful story. ...please read my stories.
रिप्लाय
आशिष पण्डित
बहुत ही अच्छी यादे है आपकी नेहा जी
रिप्लाय
kunal kumar
very nice
रिप्लाय
SP Maretha
wah Kya baat ....lekin kahani thoda aage Jana chahiye tha...fir bhi Nice
रिप्लाय
महेंद्र कुमार पाल
बहुत सुन्दर
रिप्लाय
सुखचैन मेहरा
जी, बहुत खूब...आपकी कल्पनाओं को साहित्य रूप दे दो तो चार चांद लग जाये आपकी कल्पनाशक्ति बहुत अच्छी है लिखते रहिये...👍👍👍
रिप्लाय
Swatisingh Tomar
Sahi kha apne...Wo ek pagalpan hota h jisme kisi bi dusri cheej ka khyal ni hota...Hm sapno ki duniya me hote h...Nyc story
रिप्लाय
सत्यम सात्यिकी
आपकी रचना से हमे भी प्यार हो गई
रिप्लाय
शैलेश सिंह
उम्र का वो दौर,,, एक अजीब सी हलचल,, खुशनुमा सा सपने में उड़नेवाली फीलिंग्स,,, सच का आभास,,, 👌
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.