वो अल्हड़ सा

Deepti Arora

वो अल्हड़ सा
(64)
पाठक संख्या − 12555
पढ़िए

सारांश

जनवरी 2018 की बात है। सुपर एक्सप्रेस एक लंबे हॉर्न के बाद अपना नियत स्थान छोड़ चुकी थी। गाड़ी अब धीरे धीरे आगे बढ़ रही थी। गाड़ी में काफी भीड़ होने की वजह से हमें बैठने की जगह भी नहीं मिल रही थी। हम ...
Mickenzy Titus
nice story
रिप्लाय
Jyoti Arora
बहुत ही सुंदर लिखा हैं आपने ।आपसे एक मार्गदर्शन चाहती हूँ यदि यहाँ अपनी कहानी प्रकाशित करने के लिए क्या करना होगा ।
रिप्लाय
Suresh Thakur
very very nice
रिप्लाय
Geeta Rajput
nice story mam.......ye story aage likhi ja sakti he
रिप्लाय
Manisha Jain
good
रिप्लाय
Niraj Agrawal
सचमुच एक अच्छी कहानी। कई बार किसी से सिर्फ बात करके ही काफी अच्छा महसूस होता है और बात न होने पर महसूस होता है जैसे कुछ miss हो रहा है।
रिप्लाय
V.p. Rana
bhut acchi story dil khus ho gaya
रिप्लाय
Wajid Qadri
Bhut dil chashb khani h Good
रिप्लाय
Ajay Dang
Ati sunder
रिप्लाय
JS Naphrary
Nice story
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.