विश्वास

कविता वर्मा

विश्वास
(291)
पाठक संख्या − 33053
पढ़िए

सारांश

बहुत घनी काली अँधेरी रात थी हाथ को हाथ नहीं सूझ रहा था आसमान में घने काले बादल छाये थे बहुत तेज़ हवाएँ चल रहीं थीं। दूर दूर तक अँधेरा सपाट मैदान था उनमें इक्का दुक्का पेड़ भयानक लग रहे थे। कच्ची सड़क की ...
vibha kumari
bhaut achha hai 👌👌👌
रिप्लाय
devendra methri
om namaha shivay... accha pryas kya hai aap ne kavita ji
रिप्लाय
Krishna Khandelwal singla
Awesome story
रिप्लाय
minaz khan
achi h story to but kahi kami c h kuch...🙄
Riya mittal
bht hi achi kahani hai very nice
रिप्लाय
Gabbar Singh
सेलेक्ट कॉपी पेस्ट
Deepak Valvani
aapki kahani bohot achhi hae, kahani or aage badatin to or maza aata."D"
k n tripathi
very nice
रिप्लाय
Jatin Kant Singh
Good
रिप्लाय
Anuradha Verma
nice
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.