विमाता

मुंशी प्रेमचंद

विमाता
(173)
पाठक संख्या − 6483
पढ़िए

सारांश

स्त्री की मृत्यु के तीन ही मास बाद पुनर्विवाह करना मृतात्मा के साथ ऐसा अन्याय और उसकी आत्मा पर ऐसा आघात है जो कदापि क्षम्य नहीं हो सकता। मैं यह कहूँगा कि उस स्वर्गवासिनी की मुझसे अंतिम प्रेरणा थी और ...
अशोक कुमार खत्री
नारी वात्सल्य की अद्भुत छवि।
मंजुबाला
मार्मिक और वात्सल्य भरी
Rajeev Srivastava
दुख एवं वात्सल्य
Lalima Lalima
very nice, step mother after all is a mother
Pradeep Mishra
अद्भुत हृदयस्पर्शी रचना दिल को छू जाती है रचना पढ़ने के बाद आंखें गीली हो जाती है लेखक की अद्भुत प्रस्तुति ऐसे लेखक की लेखनी को शत कोटि नमन
Archana Varshney
ऐसी कहानी केवल प्रेम चंद ही लिख सकते थे
Deepak Chaudhry
उपन्यास सम्राट
Deepa Johri
मार्मिक कहानी, हृदय स्पर्शी
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.