वह खास खुशबू

अशोक कुमार शुक्ला

वह खास खुशबू
(51)
पाठक संख्या − 4384
पढ़िए

सारांश

मैं फिर भी सामान्य ना हो सका। अपने होंठ काटने पर भी मन से निकल रही रुलाई जैसे रोक नहीं पा रहा था। अब उन्होंने मुझे अपने अंक से लगा लिया मेरा चेहरा उनकी साड़ी की परतों में छिप गया। नथुने उस खास खुशबू से भर गए जिसके लिए हम शालिनी मैम को जानते थे... उनका वह स्पर्श अद्वितीय था ...कभी ना भूलने वाला ....! कभी ना विसरने वाला...!! तृप्त कर देने वाला...!!! अमृतमयी स्पर्श...!!! ऐसा लगा जैसे साडी की उन सिलवटों के बीच हजारों दिव्य कस्तूरी बंद हों .. ।
Varsha Jagdeep
बेहतरीन
Raghubar Chawdhary
kya baat, kya baat kya baat
Ashok Kumar
अकसर बचपन में ऐसा होता है कि किसी खास टीचर से सभी बच्चे प्यार करते हैं।
Ravi Sinha
क्या था ये ?
Sangeeta Agarwal
very nice
रिप्लाय
Ekta Pratik Parmar
very nice story
रिप्लाय
Alok Tripathi
very impressive
रिप्लाय
Sangeeta Upadhyay
hmm school Ka phela pyaar
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.