वक्त पर बरस जाना....

रामलिंग रेड्डीपाटील

वक्त पर बरस जाना....
(3)
पाठक संख्या − 50
पढ़िए

सारांश

महाराष्ट्र के मराठवाडा में सुखे से जुझ रहे किसान की हालात को उजागर करने के लिए बनाई गयी कविता....यह मेरी पहली रचना है....कुछ गलतियां हुई हों तो मेरे सामने लाएं ताकि आगे इससे बेहतर करने का प्रयास करूंगा...
sushma gupta
very nice, Hart touching lines 👌👌👌👌💐
रिप्लाय
Poonam Kaparwan
एक सटीक गुजारिश इन्द्र जी से एक किसान की वयाथा अतमहतया करने को मजबूर ।बहुत सुंदर और मार्मिक शब्द ो मे ं।
रिप्लाय
Manju Saraf
बेहतरीन
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.