लेनिन

गणेश शंकर विद्यार्थी

लेनिन
(75)
पाठक संख्या − 6557
पढ़िए

सारांश

वह सोता है, - वह विकराल नाशक! अपने दाएँ और बाएँ, आगे और पीछे सब तरफ आग सुलगा कर, और उसकी लपट से प्राचीन संस्‍थाओं के अस्थिपंजर को भस्‍मी भूत करके लेनिन प्रगाढ़ नींद में सो रहा है। रूस के किसानों, ...
Abhay Kulshrestha
अति सुंदर
Nitin Chetan
लेनिन नास्तिक था पर लेकिन भूमिका में राम और रामायण का संदर्भ दे कर लेनिन को समझने का प्रयास किया गया है जो लेनिन का अपमान है।
रिप्लाय
Raakesh Chauhaan
पता नहीं किसने गणेश शंकर का नाम लिखकर कापी पेस्ट किया है....कम से कम कुछ तो बताया होता... केवल भूमिका लिखकर ही छोड़ दिया....
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.