लाल पान की बेगम

फणीश्वरनाथ 'रेणु'

लाल पान की बेगम
(190)
पाठक संख्या − 8398
पढ़िए

सारांश

'क्यों बिरजू की माँ, नाच देखने नहीं जाएगी क्या?' बिरजू की माँ शकरकंद उबाल कर बैठी मन-ही-मन कुढ़ रही थी अपने आँगन में। सात साल का लड़का बिरजू शकरकंद के बदले तमाचे खा कर आँगन में लोट-पोट कर सारी देह ...
Rajeev Singh
Chota muhu or badi bat Renuji ki rachna Jase man ke andar sab biscop ki tarah Sara Chita dikha deti hai
Pratibha Thakur
lajawab story hai💝💝💝
pooja singj
बहुत pyaaरा उपन्यास है ....एक पुराने घर की नोक झोक के साथ मीठा प्यार ....हसी के साथ ...
Jyoti Saha
gramin jiwan ka sukhad smaran hai ye kahani....
डॉ. पूनम बनर्जी
its an amazing story,renuji ne jis khubsurati ke sath itni choti ghatna ka varnan kiya hai,baar baar padhne ko dill chahta hai
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.