लापरवाह मीत

गीतिका कौर

लापरवाह मीत
(117)
पाठक संख्या − 13351
पढ़िए
munmun
kya likhna chah Rahi ho....khud hi tumhe pata nahi hota..bakwas
Anjali
nice thot behind it
बृजभूषण खरे
शानदार प्रस्तुति. पढ़ कर बहुत अच्छा लगा.
Pooja Sharma
sch m bht Acha likha h
Alka Sanghi
jis par beeti ho vohi likh Santa h
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.