लाजो 12

अभिषेक📝📝📝 सिंह

लाजो 12
(14)
पाठक संख्या − 4400
पढ़िए

सारांश

अब तो बस तू ये घुँघरू बाँध ले औऱ चार पाँच ठुमके लगा ले अभी तो तुझे बहुत कुछ सीखना बाकी है रे मेरी लाजो तेरे इस क्वारी जिस्म पर फिदा भी न जाने कितने होंगे न जाने कितनो की इमान डोलवायगी तू।अब तो बस .......
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.