लड़की जात हो चुप रहना सीखो

जयति जैन "नूतन"

लड़की जात हो चुप रहना सीखो
(92)
पाठक संख्या − 7367
पढ़िए

सारांश

जो लोग कहते हैं अपनी लड़कियो से लड़को के सामने कि ""तुम लड़की जात हो चुप रहना सीखो, मुंह बंद रखा करो ! वो लड़का वो अपनी मन-मरज़ी कर सकता है !"" ऐसा क्ह के वो लड़की के साथ भेदभाव तो करते ही हैं, साथ ही लड़के को बडावा देते हैं, कि बेटा तुम ही सही हो, तुम्हारी बहिन में भगवान जाने कब अकल आयेगी ! ऐसे मां-बाप कभी उस लड़की की त्याग की भावना को नहीं समझ सकते ! जिनके लिये हर चीज मे उनका लडका सही होता है ! ऐसी लड़कीयो को बस सही वक्त का इन्तेजार करना चाहिये क्युकि उनकी बात समझने वाला कोई नहीं होता वक़्त वो सबक सिखाएगा उनको जो हम नहीं सीखा पाए !
Rupa Kirar Jamra
bahut hi Sundar rachana hai.
Vijaya Bhandekar
आपके आपके विचारों का मैं सम्मान करती हूं बहुत ही सुंदर कहानी के माध्यम से आपने एक लड़की के जीवन के संघर्ष को समझाया है
Seema Shukla
ईस दंश को मैने भी झेला है
अनुश्री त्रिपाठी मिश्रा
बहुत बढ़िया, समाज की कटु सत्य की झलक
Sushil Kumar
Aapne Kahaani aur Kavita dono hi bahut achhi likhii hain👌👌💐💐, Aajkal ke samaaj ki ghatiya soch ko bahut achhii tarah ujaagar kiya h, aajkal ke samaaj ki soch ko dekhte huye sabhi girls ko yahi kahunga ki agar unhe unka haq chahiye toh वो अपनी शराफत को छोड़ दें और आक्रामक बनें🙏🙏
Smriti Tiwari
nariman ki abhivaykti
Neha Neha
bahut bdiya story h
suman vishwakarma
kahani achchi hai lekin Hindi ke sabda aur matraye bahut jagah galat hai .
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.