लक्ष्मी जी की कृपा~३

दुर्गा प्रसाद

लक्ष्मी जी की कृपा~३
(28)
पाठक संख्या − 543
पढ़िए

सारांश

आपने अबतलक पढा़!! सेठ श्री लक्ष्मी नरायन का सब कुछ अतिवृष्टि से समाप्त हो जाता है।उदय प्रकाश और चैतन्य प्रकाश इसे एक प्राकृतिक आपदा का नाम देते हैं। सेठ स्वप्निल बातों की सच्चाई पर चिंतन करते हैं। ...
शशि कुशवाहा
very nice story
रिप्लाय
आकाश इफेक्ट
उत्तम कथानक, उत्तम गति, उत्तम अंत उसके बाद भी मात्र ★★★ कारण कथा इतनी बड़ी नही कि इसे ३-४ भागों में लिखा जाए। ये मात्र एक भाग में ही आ सकती थी। अधिक भागों में कथा होने के कारण कई बार कथा अपना मूल स्वरूप खो देती है। कई बार ऐसा भी होता है कि क्रमशः... लिखी हुई कथा पाठक पढ़ते ही नही क्योंकि किसी भी कथा का अगला भाग कब आएगा ये किसी को नही पता होता। प्रयास कीजिये कथा को एक ही भाग में सम्पूर्ण करने का। कथा बहुत दीर्घ हो तो भी बात समझ में आती है। छोटी कथाएं भी दो से अधिक भागों में अपना असर खो देती हैं। शेष आपकी इच्छा पर मान्यवर।
रिप्लाय
sushma gupta
बहुत सुन्दर कहानी 💐💐
रिप्लाय
Manisha Raghav
excellent बड़े भाई निशब्द
रिप्लाय
Suman Tandon
बहुत बढ़िया
रिप्लाय
रवीश कुमार
अतिसुन्दर और प्रेरक।
रिप्लाय
Poonam Kaparwan
great moral in the story 👍 👌
रिप्लाय
Ravi Jangid
nice गुरु जी मेरे
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.