लक्ष्मीनिवास बिडला

अज्ञात

लक्ष्मीनिवास बिडला
(92)
पाठक संख्या − 41295
पढ़िए

सारांश

किसी जमाने में एक चोर था। वह बडा ही चतुर था। लोगों का कहना था कि वह आदमी की आंखों का काजल तक उडा सकता था। एक दिन उस चोर ने सोचा कि जबतक वह राजधानी में नहीं जायगा और अपना करतब नहीं दिखायगी, तबतक चोरों ...
हरि औम शर्मा
लोक कथा "जानी चोर" पर आधारित कहानी है, पौराणिक श्रेणी में नहीं आती । बिड़ला जी को साधुवाद ।
Lavkush Nirmal
story achi hai lekin publish karne se pahle ek baar review Kar Lena chahiye kaha Kya galat ho Gaya hai bahot jagah pe paai maatra galat hai.
Mk Soni
hahahaha funny good
Rajat Sharma
Amma yaad aa gai ...bht khoob....💐💐💐💐
Mamta Upadhyay
मज़ेदार स्टोरी😁😁
Prakash
nice 💓 touching story 👏👏😊
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.