रैना@मिडनाईट - 1

Nitin Mishra

रैना@मिडनाईट - 1
(573)
पाठक संख्या − 18466
पढ़िए

सारांश

प्रस्तावनाDate: 12th December 2017Time: 12:00 a.m.घडी के कांटे रात के ठीक बारह बजा रहे थे|‘रैना! रैना!!’विकास बेतहाशा चिल्ला रहा था लेकिन उसकी आवाज़ जैसे किसी पत्थर से टकराई|रैना को देखकर उसके मुंह से
Amarsingh Tomar
nice suspense and hooror story
shalini
बहुत अच्छा आपने लिखा है
satnamhans
buht achi khani hai 👍👍👍👍
DJ Prince
wah.....gjb ki story h
Mahak Singh
nice story nd am following u when I load tis App plz aur story Write kriye a hage of midnight lily type
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.