रीता का कसूर भाग 2

पूर्णिमा

रीता का कसूर भाग 2
(120)
पाठक संख्या − 15376
पढ़िए

सारांश

रीता का कसूर पार्ट 1 : यहाँ पढ़ें रीता २२- २३ साल की खुले विचारों की स्वाभिमानी नवयुवती थी । उसका मन बहुत मासूम था , वह असहाय और जरूरत मंदो की हमेशा मदद करती थी । वह किसी का दुःख नही देख सकती थी । वह ...
tareshwari mishra
आप की कहानी बहुत मार्मिक और दर्द भरी हुई है लडकी कोभी आसानी से भरोसा नहीं कर ना चाहिये अगर कोई कुछ किसी के बारे कुछ कहता है तो सिरे से नकारने की बजाए परखना जरूरी होता है समाज में सुधार लाने के लिए दोसी को सजा तो मिलनी ही चाहिए शादी करवा देने से समस्या हल नही हो सकती है
रिप्लाय
Sonu Sharma
बहुत ही अच्छा जी धन्यवाद जी
रिप्लाय
Prabha Tandon
awesome
रिप्लाय
Pooja Arora
hearttouching story 😢😢😢
रिप्लाय
भावना
बहुत ही मार्मिक अभिव्यक्ति।
रिप्लाय
Meenakshi Bhandari
Aapne kahani ke jariye ek achha mudda uthaya he.ye sach me ek burning issue he. Good.
रिप्लाय
Abhishek Jaiswal
बकवास
रिप्लाय
Maruti Nandan Nayak
very very nice line...
रिप्लाय
Aarti Tiwari
👌👌👌👌👌👌👌👌👌
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.