रिक्शावाला

प्रियंका रीतेश श्रीवास्तव

रिक्शावाला
(190)
पाठक संख्या − 11728
पढ़िए

सारांश

आज मुग्धा थोड़ी देर से उठी...... अलसाई सी न्यूज़ पेपर उठाया पूरा पेपर बस क्राइम से ही भरा हुआ था, तीसरा पेज जैसे ही खोला उसकी नज़र एक न्यूज़ पर पड़ी " टप्पेबाज " वो धीमे से बोली..... लो अब इन लोगों ने एक ...
Mamta Upadhyay
सच मे कौन सच्चा कौन झूठा है फर्क करना कठिन है
Komal Patel
मेहनत करने वाले हाथ भीख नहीं मांग सकते है 👌👌👌👌👌
DINESH jangid
very good story aaj bhi duniya me swabhimani log hai
Dr. Santosh Chahar
झकझोर देने वाली कहानी या हकीकत। बहुत खूब।
Kanta Asopa
sach mai jimmedari hi acchi soch deti hai
नैना साहू
उत्कृष्ट कृति
arun
आपका केंद्र बिंदु सकारात्मक लेखन है ,बधाई
Savita Ratiwal
मानवीय मूल्यों से भरी सुन्दर कहानी
Hemant MOdh
असल में जिंदगी हमें रोज ही कुछ न कुछ सिखाती, बस समझ होनी चाहिए सीखने की। आपकी कहानी वाकई बहुत कुछ सिखाती हैं, इस पर शॉर्ट फिल्म बनाना चाहिए... Film Visualuzer: फिल्मोग्राफी नेशनल मैगज़ीन
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.