रात मिलन की

सिद्धार्थ अरोड़ा

रात मिलन की
(165)
पाठक संख्या − 16418
पढ़िए

सारांश

बड़ी मुश्किल से उसे एक रात मिली थी। इस रात वो हर हाल में अपनी प्रेयसी से मिलना चाहता था, पर उसके और उसकी महबूबा के बीच सिर्फ एक पेड़ का फासला था
Aarti Sharma
Kahani achhi h..yu hi likhte rahie..navyugal premiyo ka charitra chitran achha h.
ANUPRIYA INDIA
😂😂😂😂😂😂😂है भगवान!!! हद ही हो गई।।।।
ShrUti DubEy
mzaa aa gya 😃😃
संतोष नायक
सुंदर रचना। कहानी अच्छी लगी।
Navisha Soni
जबरदस्त
Ujwal Mehta
अंगूर खट्टे है
Neha Baranwal
nice ,bechara😂😂
Deepak SINGLA
हाहाहा जानेमन ने अच्छा सबक सिखा दिया
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.