रात का डर

अज्ञात

रात का डर
(232)
पाठक संख्या − 47473
पढ़िए

सारांश

उस रात जब विशाखा सोने गई तो नयी जगह होने की वजह से काफी देर तक उसे नींद ही नहीं आयी| ऊपर से उसके सारे दोस्त जो लड़के थे उनको शादी के घर में अलग से ठहरने को कमरा दिया था और खुद को बाकी औरतों के साथ ...
Sona Ahuja
Adhuri si lagti hai story
Shilpi Srivastava
good starting but nonsense ending
Priyanka Jaiswal
aaj ka sach h ye sunder kahani
Prasad Nidhi
ye kahani kuch adhuri si lagi
MONIKA MEHRA
विशाखा ने दरवाज़ा खोल कर आफत को खुद बुलाया
Babita Kumari
Good story and इंटरेस्टिंग.
Umesh Kumar
Todi mehnat karte to Bhut acha likha ja Sakta tha
पूजा सिराना
kafi galtiyan h kahani me.... end to bilkul achcha nhi h... aisa laga jaise adhuri kahani ho
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.