रहस्य

सीमा सिंह

रहस्य
(76)
पाठक संख्या − 5257
पढ़िए

सारांश

कई साल पुरानी घटना है। आज भी मन मस्तिष्क पर ऐसे छपी है जैसे कल की ही बात हो… हमारे पिता जी घोर आर्यसमाजी थे। उनके घर में हम बहनों ने व्रत आदि नही किए कभी। पर शादी के बाद अपने ससुराल की परम्पराएं ...
priya
asa hota h . ager aapme Aapke east ke parti sardha h to ??
Narendra Kumar Pandey
ईश्वर है ऐसा विश्वास दिलाने वाली सुंदर कहानी 👌👌
Mamta Pattanaik
is it a real story
रिप्लाय
Rachana Wadekar
हाँ ऐसा होता हैं मेरे साथ भी नवरात्र में एक बार ऐसा ही हुआ था मुझे मेरे नाम से पुकारा गया था सवेरे के चार बजे मुझे लगा कि मेरी सहेली हैं हम दोनों जल चढाने मंदिर जाती थी पर उस दिन वो नहीं आई थी इतनी मधुर आवाज में मेरा नाम पुकारा गया था आज भी मुझे वह आवाज याद आती हैं .
Nancy Singh
wow... agr bhakt saccha ho to bhagwan ko aana hi padta hai...
MAHANAND SINGH
बहुत ही अच्छा रहस्य है । मेरे साथ भी ऐसा ही घटना घटित हुआ है !
Akshay Bharti
vo ladki svaym. devi. hi. thi apne. Bhakto. Ko sahay karne. hetu. Balika. Ka. swarup dharan. kiya
Chhaya Singh
mai v Manti hoo maa ki mahima ko
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.