रंग-भेद

प्रद्युम्न ✍️

रंग-भेद
(7)
पाठक संख्या − 168
पढ़िए

सारांश

मानव तुम सृष्टि में सुंदरतम , ओह!फिर ये रंग-भेद क्यों अनन्यतम ? आओ!भेद-भाव रहीत हों बनें श्रेष्ठतम। नोट -सर्वाधिकार सुरक्षित ...
Kalyani Jha
बात तो बिल्कुल सही हैं जी लेकिन ऐसा होता कहा हैं ।
रिप्लाय
Aditi Tandon
सही कहा आपने बनाने वाले ने भेद नहीं किया तो हम क्यूं करें 👌👌👌
रिप्लाय
sushma gupta
हाँ क्यूँ.. 🤔
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.