यौवन

Himanshu raghav

यौवन
(20)
पाठक संख्या − 61
पढ़िए

सारांश

कली सी नाजुक हैं बो दूध सा रंग तेरा जब नजर से नजर मिली उनसे मत पूछो दिल ऐ हाल मेरा । मोती सी है आंखे उनकी साबन है योवन तेरा मुखातिब हुए जब जब उनसे धड़कने तेज ,धानी हुआ रोम रोम मेरा । होठ ग़ुलाबी ...
Poonam Kaparwan
lovly romance g 👌 💐 👍 👌 👌 😒
Manisha Rani
acchi h
रिप्लाय
Vijaykant Verma
वाह
रिप्लाय
Shobhna Goyal
👌👌👌गजब !!!
रिप्लाय
संतोष नायक
' अब की कोशिश उनकी हुई '।बहुत खूब। रचना ' यौवन ' पसंद आई।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.