ये प्यार नही तो क्या हैं...?

Mayank Sahu

ये प्यार नही तो क्या हैं...?
(8)
पाठक संख्या − 84
पढ़िए

सारांश

अर्ज-ए-दुआ होती हैं, खुदा से जब भी मुलाकात होती है...! कभी तुझे पाने की फरियाद, तो कभी तू क्यू नहीं साथ, ये सवालात होती हैं...!! ये प्यार नही तो क्या हैं...? तू ख़फा हो तो सजा लगती हैं मुस्कुरा दे ...
Jiwan Sameer
सुंदर
रिप्लाय
ujjwal raj unstopablepen
Wow wonderful
रिप्लाय
Arbaz Khan
Fantastic bro
रिप्लाय
Sunil Sinha
Supprrrb
रिप्लाय
Yamini Mudaliar
Awsm😊
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.