ये कैसी बेबसी?

वंदना गुप्ता

ये कैसी बेबसी?
(71)
पाठक संख्या − 10498
पढ़िए

सारांश

प्यार, त्याग और समर्पण से घर संसार बनाया जाता है । ये शब्द कूट-कूटकर भर दिए जाते हैं बचपन से ही स्त्री के मन में । राधा भी इन्ही शब्दों और भावनाओं के साथ ज़िन्दगी गुजार रही थी मगर इन शब्दों का ...
Mamta Mishra07
kuch baate bas mehsus ki ja skti h....aapne fir mehsus karaya .. thanks...aage v aisi story ki ummid krti hu
Chourasiya brajesh
स्टोरी तो अच्छी है, पर समाज मे आज भी ऐसे लोग है जो पत्नी को पूरा मान सम्मान देते है...
Sushil Shrivastav
very nice
रिप्लाय
Prem Kumar
नारी अंतरद्वंद को चिन्हित करती रचना।
रिप्लाय
DrShilpa Jain
nice story
रिप्लाय
Anju Chouhan
nice
रिप्लाय
anil trivedi
अगर सारी दुनिया इस कहानी की सोच के अनुसार होती.तो क्या आज लड़कियां विभन्न क्षेत्रो में बुलंदियों को छू पाती?लड़के इतने निष्ठुर भी नही होते..
रिप्लाय
नीरज शर्मा
बढ़िया
रिप्लाय
धर्मेंद्र विश्वकर्मा
बढ़िया लिखा .....?
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.