ये इशक नहीं आसां

Daisy

ये इशक नहीं आसां
(77)
पाठक संख्या − 27489
पढ़िए

सारांश

मिनाश आफिस में काम कर रही थी तभी उसकी बचपन की सहेली सोनाली का फोन आया कि समीर ने सुसाइड करने की कोशिश की है।वह हॉस्पिटल में एडमिट है मैं देखने जा रही हूं क्या तुम मेरे साथ चलोगी। मीनाश खबर सुनकर ...
Mrigavathi Chajed
शानदार प्रस्तुति 👌👌
Anuradha Chauhan
बेहतरीन प्रस्तुति
Aman Arora
Nice story with very good Ending
Sukhpal Randhawa
at the ending word is trustworthy
anju sharma
कुछ तो लोग कहेंगे ।दो सफल प्रेम कहानियां
Sarla Taluja
प्यार तो अधां होता है
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.